Apki Zindagi Sirf Ek Minute Mein Badal Sakti Hai – Hindi [PDF]

PDF Preview:

Apki Zindagi Sirf Ek Minute Mein Badal Sakti Hai (It Takes Only A Minute to Change Your Life) (Hindi) - Jolley, Willie - Book PDF Download Free

PDF Title : It Takes Only A Minute to Change Your Life
Hindi Title : Apki Zindagi Sirf Ek Minute Mein Badal Sakti Hai
Total Page : 122 Pages
Author: Willie Jolley
PDF Size : 2.7 MB
Language : Hindi
Source : williejolley.com
PDF Link : Available
, ,

Summary
Here on this page, we have provided the latest download link for Apki Zindagi Sirf Ek Minute Mein Badal Sakti Hai (It Takes Only A Minute to Change Your Life)- Hindi PDF. Please feel free to download it on your computer/mobile. For further reference, you can go to williejolley.com

Apki Zindagi Sirf Ek Minute Mein Badal Sakti Hai (It Takes Only A Minute to Change Your Life)- Hindi

कई लोग सचमुच यह सोचते हैं कि वे गंभीर हैं, जबकि दरअसल वे सिर्फ़ इसकी प्रक्रिया से गुज़रते हैं। वे सोचते हैं कि वे गंभीर हैं, परंतु दरअसल वे खुद को सिर्फ़ मूर्ख बना रहे हैं। वे सक्रिय और व्यस्त हैं, परंतु वे कहीं नहीं जा रहे हैं।

यह तो ऐसा है कि आप ट्रेडमिल पर तेज़ी से दौड़ते रहें और कहीं न पहुँच पायें। बहुत त से लोग खुद को मूर्ख बनाते हैं और उन्हें गतिविधि तथा परिणामों के बीच के फ़र्क का एहसास ही नहीं होता।

मैं यह बात कैसे जानता हूँ? क्योंकि मैं भी उन्हीं लोगों में से एक था, जो व्यस्त तो होते हैं, परंतु प्रगति नहीं करते। कई वर्षों तक मैं तूफ़ानी अंदाज़ में काम करता रहा, परंतु जब मैंने गौर से देखा तो मुझे एहसास हुआ कि मैं कुछ हासिल नहीं कर पाया था। मैं प्रक्रिया से तो गुज़र रहा था, परंतु मैं सचमुच गंभीर नहीं था। मैं इसे पर्याप्त प्रबलता से नहीं चाहता था।

जब आप गंभीर होते हैं, तो आप अतिरिक्त मील चलने के इच्छुक रहते हैं और अतिरिक्त प्रयास करते हैं। आप वह काम करने के इच्छुक होते हैं, जो कष्टकारी है। आपके संकल्प का स्तर ऊँचा उठ जाता है। आप अपने सर्वश्रेष्ठ प्रयास को जगत के तरीक़े खोजते हैं। आप गहराई में जाते हैं और लगनशील, अविचलित तथा अदमनीय बनने का निर्णय लेते हैं वाह कितनी ही विपरीत क्‍यों न हो जायें!

ख़ुद से यह सवाल पूछें, “अगर मैं गंभीर होता, तो मैं क्या करता?” मैं किन लक्ष्यों का पीछा करता? मैं कौन से काम करता और कौन से काम करना बंद कर देता? मैं कौन सी समय बर्बाद करने वाली या अनुत्पादक गतिविधियाँ छोड़ देता? अगर मैं सचमुच गंभीर होता, तो मैं क्या करता?

ख़ुद से यह सवाल पूछें और आपका मस्तिष्क आपको जवाब दे देगा। एक बार आपको जवाब मिल जाये, तो एक काग़ज़ पर उसे लिख लें। इसे पढ़ें और सूची पर काम करना शुरू कर दें। चाहे आप वर्तमान में कुछ भी कर रहे हों, आप उससे अधिक कर सकते हैं।

Apki Zindagi Sirf Ek Minute Mein Badal Sakti Hai – Hindi PDF


Help us to serve you better. Rate this PDF
[ Total: 1 | Average: 5 ]

If you find this PDF violating your rights, and you want to unpublish it, Please Contact-Us / DMCA.